एक प्रार्थना

एक प्रार्थना अहंकार का भाव ना रखूँ, नहीं किसी पर क्रोध करूँ, देख दूसरों की बढ़ती को, कभी ना ईष्या…